Saturday, May 25, 2024
More
    HomeBiographyAvadh Ojha biography: पेरेंट्स के घर से निकाले जाने के बाद गोंडा...

    Avadh Ojha biography: पेरेंट्स के घर से निकाले जाने के बाद गोंडा का गुंडा कैसे बना गुरु द्रोणाचार्य!

    -

    अवध ओझा सर भारत के नामी शिक्षकों में से एक हैं लेकिन उनकी बचपन की बात की जाए तो यह बचपन में एवरेज छात्र रहे हैं। अपनी क्लास में यह बहुत ज्यादा बदमाशी किया करते थे इसलिए इन्हें गोंडा का गुंडा कहा जाता था। इनकी लाइफ की टर्निंग पॉइंट तब आई जब उनके माता-पिता इनसे तंग आकर इन्हें घर से बाहर निकाल दिया था।

    आरंभिक जीवन!

    अवध ओझा का पूरा नाम अवध प्रताप ओझा है लेकिन ये अवध ओझा नाम से मशहूर हैं। अवध ओझा सर का जन्म 3 जुलाई 1984 ई को उत्तर प्रदेश के गोंडा में हुआ था। इनके पिता पोस्टमैन एवं माता वकील थीं। उनके पैरेंट्स चाहते थे कि यह डॉक्टर बने लेकिन उनकी रुचि सामाजिक विज्ञान में ज्यादा थी।

    अवध ओझा सर शिक्षा!

    अवध ओझा सर को पढ़ाई में कोई खास रुचि नहीं थी यह एक एवरेज स्टूडेंट थे। ये जब पढ़ाई करने जाते थे तो लोग इन्हें बहुत ज्यादा परेशान किया करते थे चाहे शिक्षक हो या उनके सहपाठी सभी इन्हें परेशान करते थे। एक बार किसी कारणवश टीचर उनकी पिटाई कर दी थी तब इन्होंने भी बदले में टीचर को अपने दोस्तों के साथ मिलकर पीट दिया था। टीचर के पीटने के बाद लोग इन्हें काफी सम्मान करने लगे और किसी ने फिर दोबारा परेशान नहीं किया जिस वजह से इन्हें लगने लगा कि यही अच्छा काम है। टीचर के पीटने के बाद उनकी मनोबल और बढ़ गई और यह बदमाशी करने लगे। छात्र जीवन में इन्हें गोंडा का गुंडा कहा जाता था। उनके माता-पिता इनसे तंग आकर इन्हें घर से बाहर निकाल दिया था। माता-पिता के घर से निकल जाने के बाद उनकी लाइफ की टर्निंग प्वाइंट ए इसके बाद इन्होंने बदमाशी करना छोड़ दिया और मेहनत करने लगे।

    अवध ओझा सर ने हिस्ट्री सब्जेक्ट से ग्रेजुएशन किया ग्रेजुएशन के बाद इन्होंने यूपीएससी का एग्जाम दिया लेकिन यह पूरी तरह एग्जाम पास नहीं कर पाए।

    ऐसे की करियर की शुरूआत!

    यूपीएससी के एग्जाम देने के बाद अवध ओझा इलाहाबाद से दिल्ली गए वहां इन्होंने कोचिंग में हिस्ट्री सब्जेक्ट पढ़ना शुरू किया। बच्चों को उनके पढ़ने के तरीके इतने भा गए है कि यह सब के चहेते शिक्षक बन गए। साल 2005 में ओझा सर ने खुद की कोचिंग इंस्टिट्यूट खोला। साल 2019 में इन्होंने महाराष्ट्र में इकरा नमक कोचिंग खोला शुरुआत में मात्र एक छात्र वहां पढ़ाई करता था , धीरे-धीरे वहां छात्रों की संख्या में वृद्धि होने लगी। साल 2020 में ओझा सर ने यूट्यूब पर एक चैनल बनाया और ऑनलाइन देश भर के बच्चों को यूपीएससी की तैयारी करवाने लगे। यूपीएससी की सिलेबस पढ़ने के साथ-साथ ओझा सर छात्रों को अच्छी सलाह भी दिया करते हैं वह आज के समय के गुरु द्रोणाचार्य से काम नहीं है।

    अवध ओझा फैमिली!

    अवध ओझा सर के परिवार में उनके माता-पिता पत्नी एवं तीन बच्चे रहते हैं अवध ओझा सर ने साल 2007 में विवाह की थी उनकी पत्नी का नाम मंजरी ओझा है। उनकी तीन बेटियां बुलबुल , पीहू एवं गुनगुन है।

    Related articles

    Latest posts