Saturday, June 15, 2024
More
    HomeBiographyEngineer Rashid Biography In Hindi: Engineer Rashid Name, Education, Career, Political Career,...

    Engineer Rashid Biography In Hindi: Engineer Rashid Name, Education, Career, Political Career, Profession And More

    -

    इंजीनियर राशिद ऐसे शख्सियत है जिन्होंने जेल में रहते हुए भी लोकसभा 2024 की चुनाव जीती। वर्तमान समय में इंजीनियर राशिद दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद हैं, ऐसे में यह जान लेना जरूरी है कि क्या वह शपथ ग्रहण में यह शामिल होंगे? मैं आपको बता दूं कि संसद सदस्य के रूप में शपथ लेना किसी भी निर्वाचित सदस्य का संवैधानिक अधिकार है। लेकिन शपथ ग्रहण से पूर्व जेल प्रशासन को संसद सचिवालय सूचित करती है कि अपराधी कैदी चुनाव जीत गया है तो उसे शपथ ग्रहण के दिन शपथ लेने के लिए अनुमति दी जाए। इसके बाद ही अपराधी शपथ ग्रहण कर पाएंगे, इस प्रकार इंजीनियर राशिद भी शपथ ग्रहण में शामिल होंगे।

    सोशल मीडिया पर इंजीनियर राशिद की जीत पर काफ़ी चर्चा हो रही है तो चलिए जानते हैं आखिर कौन हैं इंजीनियर राशिद।

    कौन है इंजीनियर राशिद (Who Is Engineer Rashid)

    इंजीनियर राशिद का असली नाम शेख अब्दुल राशिद है, लेकिन यह इंजीनियर राशिद के नाम से ज्यादा मशहूर हैं। इंजीनियर राशिद का जन्म हंदवाड़ा क़स्बा के लाछ, मावर में हुआ था। शेख अब्दुल राशिद वर्तमान समय में बारामुला सीट से सांसद हैं। बता दें कि बारामुला लोकसभा सीट पर रशीद को चार लाख 72 हज़ार वोट मिले जबकि उमर अब्दुल्ला को दो लाख 68 हज़ार वोट मिले।

    इंजीनियर रशीद को ‘आतंकवाद की फ़ंडिंग’ के आरोप में यूएपीए के तहत साल 2019 में गिरफ़्तार किया गया था।

    इंजीनियर राशिद करियर (Engineer Rashid Career)

    इंजीनियर राशिद ने श्रीनगर पॉलिटेक्निक से सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई है। इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद इन्होंने लगभग 25 सालों तक एक इंजीनियर के पद पर काम किया। बाद मे नौकरी छोड़ राजनीति में शामिल हो गए।

    इंजीनियर राशिद राजनीतिक करियर (Engineer Rashid Political Career)

    साल 2008 में इन्होंने पहली बार कुपवाड़ा के लंगेट विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा और पहले ही प्रयास में जीत हासिल की। उसके बाद खुद की एक पार्टी बनाएं जिसका नाम अवामी इत्तेहाद पार्टी है। साल 2014 में इन्हें फिर से विधायक बनने की सौभाग्य प्राप्त हुई। इसी वर्ष उन्होंने बारामुला लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा लेकिन इन्हें हार मिली।

    2015 में बीफ पार्टी बुलाने को लेकर इनके साथ धक्का मुक्की की गई थी और प्रेस क्लब में इनके ऊपर स्याही भी फेंकी गई थी।

    साल 2024 के लोकसभा चुनाव के दौरान यह जेल में रहकर चुनाव लड़े और जीत हासिल की।

    Related articles

    Latest posts